ब्यूटी

बालों में मेहंदी लगाने के फायदे, बालों में मेहंदी लगाने के नुकसान, Balo Me Mehndi Lagane Ke Fayde, Balo Me Mehndi Lagane Ke Nuksan, बालों में कौन सी मेहंदी लगानी चाहिए, नूपुर मेहंदी लगाने के फायदे, निशा मेहंदी बालों में कैसे लगाएं, बालों में मेहंदी लगाने के फायदे और नुकसान, Balo Me Konsi Mehndi Lagaye, बालों में मेहंदी कितनी देर तक लगाना चाहिए, Mehandi Lagane Se Kya Hota Hai, पत्ते वाली मेहंदी बालों में कैसे लगाएं

Written by Admin


बालों में मेहंदी लगाने के फायदे, बालों में मेहंदी लगाने के नुकसान, Balo Me Mehndi Lagane Ke Fayde, Balo Me Mehndi Lagane Ke Nuksan, बालों में कौन सी मेहंदी लगानी चाहिए, नूपुर मेहंदी लगाने के फायदे, निशा मेहंदी बालों में कैसे लगाएं, बालों में मेहंदी लगाने के फायदे और नुकसान, Balo Me Konsi Mehndi Lagaye, बालों में मेहंदी कितनी देर तक लगाना चाहिए, Mehandi Lagane Se Kya Hota Hai, पत्ते वाली मेहंदी बालों में कैसे लगाएं

हिना मेंहदी का उपयोग , बालों में मेंहदी के फायदे – मेंहदी के फायदे बालों को झड़ने से बचाए ,बालों में मेहंदी लगाने के फायदे और नुकसान – बालों में मेहंदी लगाने के फायदे नुकसान और लगाने का तरीका , मेहंदी के औषधीय लाभ Mehndi ke Fayde aur Nuksan in Hindi

बालों में मेहंदी लगाने के फायदे , Balo Me Mehndi Lagane Ke Fayde
बालों को मजबूत, सिल्की और सेहतमंद बनाने के लिए लड़कियां बालों हिना यानी कि मेहंदी का इस्कातेमाल करती हैं. कई लोग बालों को डाइ करने के लिए भी हिना का इस्तेमाल करते हैं. यह बालों की कंडिशनिंग भी करता है. पहले तो लोग हिना के पौधे की पत्तियों को पीसकर अपने बालों में लगाते थे पर आजकल हिना पाउडर बाजार में आसानी से मिल जाता है. हिना बालों को पोषण देने के अलावा उनमें नई जान और चमक लेकर आती है. आइए जानते हैं बालों में हिना लगाने के फायदे और नुकसान…

बालों का झड़ना करे कम
मेहंदी लगाने से बालों की झड़ना कम होता है. इससे जड़े मजबूत होती हैं साथ ही बालों की सेहत भी दुरुस्त हो जाती है. मेहंदी के साथ मेथी भिगोकर लगाएं इससे बेहद कम समय में ही आपकों बालों के गिरने की समस्या से राहत मिल जाएगा.

बालों की कंडिशनिंग करती है
मेंहंदी बालों को गहराई से पोषण देता है. अगर आप बालों की कंडिशनिंग करने के लिए मेहंदी लगा रही हैं तो इसमें एक अंडा व थोड़ा दही मिला लें. यह आपके बालों को नमी प्रदान करती है. अगर आप बालों को डाई नहीं करना चाहती सिर्फ कंडिशनिंग के लिए हिना पैक लगा रही हैं तो इसे 15-20 मिनट तक के लिए ही लगाएं और पानी से धो लें.

स्कैल्प की खुजली और डैंड्रफ से पाएं छुटकारा
मेंहंदी लगाने से आपके स्कैल्प की गंदगी और डैंड्रफ दूर होता है. अगर आप बालों पर नियमति रूप से 10 मिनट के लिए लगाएं तो न केवल आपको डैंड्रफ से छुटकारा मिल जाएगा बल्कि वे कभी वापस भी नहीं आएंगे. इसके अलावा मेहंदी में नैसर्गिक ऐंटीफंगल और ऐंटीमाइक्रोबिअल गुण होते हैं, जो स्कैल्प को ठंडक पहुंचाते हैं और खुजली को कम करने में मदद करते हैं.

बालों को डाइ करने के लिए
लोग आमतौर पर बालों को कलर या डाई करने के लिए मेहंदी का इस्तेमाल करते है, बाजार में उपलब्ध हेयर डाइंग प्रॉडक्ट्स की तुलना में मेंहंदी सुरक्षित और केमिकल फ्री और नैसर्गिक इन्ग्रीडिएंट हेयर डाइ के मुकाबले बेहद किफायती भी होती है. आप चाहें तो मेहंदी में अंडा मिलाकर भी लगा सकती हैं. बालों को डाई करने के लिए 2-3 घंटे तक इसे लगाकर रखें.

बालों को सिल्की और सेहतमंद बनाएं
मेहंदी में टैनिन पाया जाता है जो बालों के कॉर्टेक्स में प्रवेश कर उन्हें पोषण देता है और मजबूत बनाता है, इससे बाल सेहतमंद और सिल्की बनते हैं. इसके अलावा मेहंदी ऑयली बालों के लिए बेहद कारगर है. मेहंदी बालों में ऑयल प्रोडक्शन की प्रक्रिया को सीमित करने का काम करती है, जिससे बाल ऑयली नजर नहीं आते.

मेहंदी के औषधीय लाभ
मेंहदी से तो व्यक्ति को कई प्रकार कि बीमारियों से राहत मिलती है और शरीर स्वस्थ भी रहता है। मेंहदी का प्रयोग विशेष रूप से औषधि के तौर पर किया जाता है। इससे कई प्रकार के त्वचा रोग, हड्डी रोग में आराम मिलता है।
1- पानी में हिना पौधे की छाल या पत्तियों को भिगोकर और बाद में तरल का सेवन करने से प्लीहा और लिवर का स्वास्थ्य बेहतर होता है। लिवर शरीर के लिए सुरक्षा का एक महत्वपूर्ण स्तर है और शरीर में जमा होने वाले विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद करता है। इसके कार्य को अनुकूलित करने और इसके स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के द्वारा आप अन्य स्वास्थ्य स्थितियों को आने से रोक सकते हैं।
2- मेहंदी में दही, आंवला पाउडर, मेथी पाउडर मिलाकर घोल तैयार करें और इसे बालों में लगाएं। 1 से 2 घंटे बालों में रखने के बाद बाल धो लें। ऐसा करने से बाल काले, घने और चमकदार होते हैं।
3- खून साफ करने के लिए मेहंदी को औषधि के तौर पर प्रयोग किया जा सकता है। इसके लिए रात को साफ पानी में मेहंदी भिगोकर रखें और सुबह इसे छानकर पिएं।
4- घुटनों या जोड़ों में दर्द की समस्या होने पर मेहंदी और अरंडी के पत्तों को बराबर मात्रा में पीस लें और इस मिश्रण को हल्का सा गर्म करके घुटनों पर लेप करें।
5- हिना के सबसे महत्वपूर्ण प्रभावों में से इसे हृदय के लिए एक स्वस्थ जड़ी बूटी के रूप में जाना जाता है। यदि आप हिना पानी या बीजों का सेवन करते हैं, तो आप कार्डियोवास्कुलर सिस्टम पर से तनाव को मुक्त और प्रभावी ढंग से रक्तचाप को कम कर सकते हैं। यह दिल और धमनियों में प्लाक और प्लेटलेट बिल्ड-अप को रोकने में मदद कर सकता है। यह दिल के दौरे और स्ट्रोक को रोक सकता है।
6- शरीर के किसी स्थान पर जल जाने पर मेहंदी की छाल या पत्ते लेकर पीस लीजिए और लेप तैयार किजिए। इस लेप को जले हुए स्थान पर लगाने से घाव जल्दी ठीक होगा।
7- हिना का उपयोग करें अनिद्रा को दूर – हिना तेल को कुछ नींद विकारों को कम करने के साथ जोड़ा गया है, इसलिए यदि आप अनिद्रा या बेचैनी से पीड़ित हैं, तो अपने हर्बल आहार के लिए कुछ हिना तेल का उपयोग करें और शरीर को सुखदायक करके एक नियमित, आरामदायक नींद का आनद लें।
8- तासीर में ठंडी होने के कारण मेहंदी का उपयोग शरीर में बढ़ी हुई गर्मी को कम करने में किया जाता है। हाथों और पैर के तलवों में मेहंदी लगाने से शरीर की गर्मी कम होती है।
9- इसके अलावा मेहंदी के ताजे पत्तों को तोड़कर साफ पानी में भिगो दें और रात भर रखने के बाद इसे सुबह छानकर पिएं। यह प्रयोग भी शरीर की गर्मी को दूर करने में मददगार है।
10- सिरदर्द या माइग्रेन जैसी परेशानियों के लिए भी मेहंदी एक बेहतरीन विकल्प है। ठंडक भरी मेहंदी को पीसकर सिर पर लगाने से काफी फायदा होगा।
11- आयुर्वेदिक परंपराओं के अनुसार, हिना भी बुखार को कम करने में सक्षम है। जब लोग बहुत अधिक बुखार से पीड़ित होते हैं, तो पूरे शरीर में तापमान में वृद्धि अंगों के कार्यों और चयापचय प्रक्रियाओं के लिए खतरनाक हो सकती है। इसलिए शरीर के समग्र तापमान को कम करना आवश्यक है और हिना पसीना लाकर बुखार को प्रभावी ढंग से कम करती है।
12- मेहंदी / हिना है मूत्र संक्रमण के उपचार में लाभकारी –  10-15 मिलीलीटर पत्तियों के ताजा रस को 3-5 ग्राम चीनी और 10-15 मिलीलीटर दूर्वा के ताजा रस के साथ मिक्स करें। इस मिश्रण को 15 मिलीलीटर की खुराक दिन में 2 बार लें। यह पेशाब को करने में कठिनाई और जलन से मुक्ति प्रदान करता है।
13- पीलिया से राहत के लिए करें मेहंदी का इस्तेमाल –  1 मुट्ठी हिना और 1 मुट्ठी आँवला को 10 ग्राम जीरा के साथ मिलाया जाता है। यह अजीब गंध को ढंकने में मदद करता है। इस मिश्रण से ताजा रस निकाले और उसे छान कर 1-15 मिलीलीटर की खुराक में सुबह खली पेट मीठे छाछ के साथ सेवन करें। यह उपाय पीलिया को राहत देता है।

मेंहदी के नुकसान
1- मेहंदी बालों को हर बार एक ही तरह का रंग देती है. अगर आप  बालों को अलग-अलग कलर का डाई करना चाहते हैं तो यह आपके लिए फायदेमेंद नहीं है.
2- मेहंदी बालों की नमी को कम कर देती है,कई बार इसका ज्यादा प्रयोग करने से बाल रुखे और बेजान से नजर आने लगते हैं. यदि आप रोजाना इसका इस्तेमाल करेंगे तो आपको समय-समय पर आपने बालों को डीप कंडिशनिंग कराने की जरूरत पड़ सकती है.
3- हिना को बालों पर लगाना काफी मेहनत वाला काम है. इसमें काफी समय भी लगता है. अच्छी रंगत पाने के लिए इसे बालों पर कम से कम दो घंटे तक लगाए रखना आवश्यक होता है.
4- बाजार में मिलनेवाली सस्ती और मिलावटी हिना से संभलकर रहें, ये आपके बालों को नुकसान पहुंचा सकती है. बहुत चटक हरे रंग वाले मेहंदी पाउडर को खरीदने से बचें.
5- डाई के रूप में इसका ज्‍यादा उपयोग करने के कारण कुछ लोगों को एलर्जी प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन यह प्रतिक्रियाएं मेंहदी के साथ मिलाए गए अन्‍य उत्‍पादों के कारण भी हो सकती है।
6- मेंहदी का उपयोग करने पर कुछ लोगों को खुजली या फफोले (itching or blistering) जैसी एलर्जी हो सकती है। इसके लिए आपको डॉक्‍टर से संपर्क करने की जरूरत है।

गर्भावस्था में बालों में मेहंदी लगाना चाहिए या नहीं
1- शुद्ध मेंहदी, जिसमें कोई रसायन नहीं होता है इस तरह की मेहंदी का इस्तेमाल गर्भावस्था के दौरान बालों को रंगने के लिए सुरक्षित है। हिना एक प्राकृतिक हेयर डाई है, अक्सर इसका इस्तेमाल बालों को रंगने के लिए किया जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि हिना बालों को सुन्दर और मजबूत बनाती है, यह बालों की गुणवत्ता में सुधार करती है।
2- ज्यादातर महिलाएं बालों में गहरा रंग पाने के लिए मेहंदी में चाय, कॉफी, लौंग, हेयर ऑयल, निम्बू का रस या कच्चे अंडे आदि का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन गर्भावस्था के दौरान कच्चे अंडे का इस्तेमाल करते वक्त सावधान रहना चाहिए क्योंकि इसमें साल्मोनेला बैक्टीरिया होता है जो गर्भवती को बीमार कर सकता।

गर्भावस्था में हाथों में मेहंदी लगानी चाहिए या नहीं
1- मेहंदी लगाना तो लगभग हर स्त्री को पसंद होता है लेकिन गर्भावस्था में महिला को खुद पर कुछ भी आजमाने से पहले अपने शिशु का ख्याल रखना पड़ता है इसलिए ऐसे में उन्हें हाथ-पैर में मेहंदी बहुत सोच समझ कर लगानी चाहिए क्योंकि हर महिला की त्वचा अलग-अलग होती है।मेहंदी लगाने की प्रक्रिया में एक ही पोजीशन में काफी देर तक बैठना पड़ता है जिसकी वजह से असजता महसूस हो सकती है। ज्यादा देर तक एक ही मुद्रा में बैठने से बेचैनी हो सकती है।
2- मेहंदी का लेप ठंडा होता है इसलिए इसे सिर और हाथ में लगाने से ठंडक महसूस होती है। इसे गर्मियों में लगाना तो ताजगी से भरपूर हो सकता है लेकिन इसे सर्दी के मौसम में नहीं लगाना चाहिए इससे ठंड लग सकती है। मेहंदी की खुशबू से गर्भवती को जी मिचली की समस्या भी हो सकती है। अगर इसे लगाने से हाथ-पैरों में सूजन और दर्द आदि महसूस होता है तो डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

बालों में मेहंदी लगाने के फायदे, बालों में मेहंदी लगाने के नुकसान, Balo Me Mehndi Lagane Ke Fayde, Balo Me Mehndi Lagane Ke Nuksan, बालों में कौन सी मेहंदी लगानी चाहिए, नूपुर मेहंदी लगाने के फायदे, निशा मेहंदी बालों में कैसे लगाएं, बालों में मेहंदी लगाने के फायदे और नुकसान, Balo Me Konsi Mehndi Lagaye, बालों में मेहंदी कितनी देर तक लगाना चाहिए, Mehandi Lagane Se Kya Hota Hai, पत्ते वाली मेहंदी बालों में कैसे लगाएं

और आर्टिकल पढ़ने के लिए निम्नलिखित लिंक्स पर क्लिक करें –

  1. घर में ब्लीच करने का तरीका, Bleach Kaise Karte Hain, Bleach Karne Ka Tarika, घर पर ब्‍लीच कैसे बनाएं, Bleach Kaise Karen, सबसे अच्छा ब्लीच कौन सा है.
  2. बेसन हल्दी फैस पैक, बेसन-हल्दी निखारे त्वचा की रंगत, बेसन हल्दी के फायदें, बेसन हल्दी फैस पैक, बेसन फेस पैक बनाने की विधि, फेस पैक लगाने के टिप्स.
  3. एलोवेरा बालों में कैसे लगाएं, एलोवेरा जेल को बालों में कैसे लगाएं, एलोवेरा को बालों में कैसे लगाएं, एलोवेरा जेल बालों में कैसे लगाएं, पतंजलि एलो वेरा जेल फॉर हेयर.
  4. बीकासूल कैप्सूल खाने से क्या फायदे होते हैं, बिकासुल कैप्सूल के लाभ, Becosules Capsules Uses in Hindi, बेकासूल, बीकोस्यूल्स कैप्सूल.
  5. शराब छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा , होम्योपैथी में शराब छुड़ाने की दवा, शराब छुड़ाने के लिए घरेलू नुस्खे , शराब छुड़ाने का मंत्र , शराब छुड़ाने के लिए योग.
  6. योग क्या है?, Yoga Kya Hai, योग के लाभ, योग के उद्देश्य, योग के प्रकार, योग का महत्व क्या है, योग का लक्ष्य क्या है, पेट कम करने के लिए योगासन, पेट की चर्बी कम करने के लिए बेस्‍ट योगासन.
  7. प्यार का सही अर्थ क्या होता है, Pyar Kya Hota Hai, Pyar Kya Hai, प्यार क्या होता है, प्यार क्या है, Pyaar Kya Hai, Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai, Love Kya Hota Hai.
  8. ज्यादा नींद आने की वजह, Jyada Nind Kyon Aati Hai, ज्यादा नींद आना के कारण, ज्यादा नींद आना, शरीर में सुस्ती, शरीर में थकावट.
  9. विवेकानंद की जीवनी, स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय, स्वामी विवेकानंद की बायोग्राफी, Swami Vivekananda In Hindi, Swami Vivekananda Ki Jivani.
  10. मोटिवेशनल कोट्स इन हिंदी फॉर लाइफ, Motivational Quotes in Hindi for Life, ब्यूटीफुल गुड मॉर्निंग कोट्स, लाइफ कोट्स, लेटेस्ट गुड मॉर्निंग कोट्स, Beautiful Morning Quotes.
  11. Love Quotes in Hindi, रोमांटिक लव कोट्स इन हिंदी, Sad Love Quotes in Hindi, डीप इमोशनल लव कोट्स in Hindi, Heart Touching Love Quotes in Hindi, लव कोट्स इन हिंदी.
  12. नमक का दरोगा, Namak Ka Daroga, नमक का दारोग़ा हिंदी स्टोरी, हिंदी कहानी नमक का दारोग़ा, Namak Ka Daroga Hindi Story, Hindi Kahani Namak Ka Daroga
  13. कबीरदास के प्रसिध्द दोहे, कबीर के दोहे मीठी वाणी, Kabir Dohe Lyrics, Kabir Ke Dohe Lyrics, Kabir Ke Dohe Lyrics In Hindi
  14. बच्चों के नये नाम की लिस्ट, बेबी नाम लिस्ट, बच्चों के नाम की लिस्ट, हिंदी नाम लिस्ट, बच्चों के प्रभावशाली नाम, हिन्दू बेबी नाम, हिन्दू नाम लिस्ट, नई लेटेस्ट नाम.
  15. अयांश नाम का अर्थ, अयांश का हिंदी अर्थ, अयंश, अयांश नाम मीनिंग, अयांश नाम का मतलब, अयांश का अर्थ धर्म और राशि, अयांश मीनिंग इन हिंदी, Ayansh Ka Arth.
  16. आरव नाम का अर्थ, आरव का हिंदी अर्थ, आरव नाम मीनिंग, आरव नाम का मतलब, आरव का अर्थ धर्म और राशि, Aarav Ka Arth, Aarav Ka Matlab, Aarav Meaning.
  17. अद्विक नाम का अर्थ, अद्विक का हिंदी अर्थ, अद्विक नाम मीनिंग, अद्विक नाम का मतलब, अद्विक का अर्थ धर्म और राशि, Advik Ka Arth, Advik Ka Matlab, Advik Meaning.
  18. सानवी नाम का अर्थ, सानवी का हिंदी अर्थ, सानवी नाम मीनिंग, सानवी नाम का मतलब, सानवी का अर्थ धर्म और राशि, सानवी मीनिंग इन हिंदी, Saanvi Ka Arth.
  19. बैताल पचीसी: प्रारम्भ की कहानी, विक्रम -बैताल की कहानियाँ, बैताल पच्चीसी की कहानियाँ, Vikram-Baital Stories In Hindi, Baital Pachisi.
  20. सीआईडी का पूरा नाम क्या है, CID Ka Pura Naam Kya Hai, सीबीआई का पूरा नाम क्या है, CBI Ka Poora Naam Kya Hai, सीआईडी क्या है, CID Kya Hai.
  21. अटल बिहारी वाजपेयी, अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी, अटल बिहारी वाजपेयी की रचनाएं, अटल बिहारी वाजपेयी की कविताएं, अटल बिहारी वाजपेयी.

आपके अमूल्य सुझाब ही mail.viralsinindia@gmail.com की सफलता की कुंजी है|

About the author

Admin

1 Comment

  • Good answers in return of this query with genuine arguments and explaining the whole thing about that.

Leave a Comment