सपने में

धनु राशि के इष्ट देव कौन है, धनु राशि के लिए रत्न, धनु राशि वालों को क्या दान करना चाहिए, धनु राशि के दोष का उपाय, धनु राशि के लिए उपाय, Dhanu Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai, Dhanu Rashi Ke Liye Ratna, Dhanu Rashi Walon Ko Kya Daan Karna Chaahie, Dhanu Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Dhanu Rashi Ke Liye Upaay

Written by Admin


धनु राशि के इष्ट देव कौन है, धनु राशि के लिए रत्न, धनु राशि वालों को क्या दान करना चाहिए, धनु राशि के दोष का उपाय, धनु राशि के लिए उपाय, Dhanu Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai, Dhanu Rashi Ke Liye Ratna, Dhanu Rashi Walon Ko Kya Daan Karna Chaahie, Dhanu Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Dhanu Rashi Ke Liye Upaay

धनु राशि – परिचय

राशि चक्र की नौवीं राशि धनु के स्वामी गुरु है. इसका प्रतीक धर्नुधर है, जिसके पीछे का शरीर घोड़े का होता है. माना जाता है कि धनु राशि के लोग प्रेरित, मेहनती और साहसी होते हैं. ये दिखने में मजबूत, शक्तिशाली और चतुर होते हैं. लेकिन उनमें इन गुणों की अधिकता उनके लिए कई समस्याएं पैदा कर सकती है. ये लोग कार्य को तेजी से करते हैं लेकिन कार्य पूरा किए बिना दूसरों के ऊपर कार्य सौंप कर उस काम से हट जाते हैं. ऐसे में धनु राशि के जातकों को अपने इष्ट देव की पूजा करनी चाहिए तथा अपनी राशि के अनुसार रत्न धारण करना चाहिए. ऐसा करने से धनु राशि के जातक अपने मार्ग से नहीं भटकेंगे और जीवन में सफलता भी प्राप्त कर सकेंगे. यहां जनिए धनु राशि के इष्ट देव, रत्न और उपाय के बारे में विस्तृत जानकारी-

धनु राशि के इष्ट देव कौन है, Dhanu Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai

‘एक साधे सब सधे, सब साधे सब जाय’ यानी किसी एक चीज को केंद्रित करके कोई काम किया जाए तो बाकी काम भी अपने आप होते चले जाते हैं, लेकिन अगर सब पर एक साथ काम किया जाए तो कुछ भी हाथ नहीं लगेगा. यही बात सनातन धर्म में देवी देवताओं को लेकर भी लागू होती है. हिंदुओं के तैंतीस कोटि देवी और देवता माने गए हैं, ऐसे में व्यक्ति को किसी एक देवी या देव को अपना इष्ट देव मानकर पूजा करनी चाहिए ताकि उनके जीवन में आ रही समस्याओं का निवारण हो सके. लेकिन व्यक्ति किस देवी या देवता को अपनी इष्ट देव माने और पूजा करें, इसका जवाब जानने के लिए व्यक्ति कि जन्म कुंडली देखी जाती है. कुंडली का पंचम भाव इष्ट का भाव माना जाता है. इस भाव में जो राशि होती है उसके ग्रह के देवता ही हमारे इष्ट देव कहलाते हैं. इष्ट देव का अर्थ है अपनी राशि के पसंद के देवता, इस आधार पर धनु राशि का स्वामी ग्रह गुरु है और इष्टदेव विष्णु जी और लक्ष्मी जी है. इसलिए धनु राशि के जातकों को विष्णु जी और लक्ष्मी जी को अपना इष्टदेव मानकर विधिवत् पूजा पाठ करनी चाहिए ताकि उन्हें सुखी जीवन प्राप्त हो सकें.
वृश्चिक राशि का स्वामी – गुरु
वृश्चिक राशि की इष्ट देव – विष्णु जी और लक्ष्मी जी

धनु राशि के लिए रत्न, Dhanu Rashi Ke Liye Ratna

शास्त्रों में रत्नों का विशेष महत्व है. रत्न व्यक्ति की राशि और राशि के स्वामी पर आधारित होते हैं. रत्न न केवल आश्चर्यजनक पत्थर के गहने या गहनों से बने आभूषण बनाते हैं, बल्कि रत्नों में उपचार और सुरक्षा जैसे गुण विद्य़मान होते हैं जो व्यक्ति की आंतरिक शक्ति को अनलॉक करने का काम भी करते हैं. माना जाता है कि यदि व्यक्ति के जीवन में किसी भी तरह की परेशानी या समस्या है तो वह अपनी राशिनुसार रत्न धारण कर उस समस्या से छुटकारा पा सकता है. आइए जानते हैं कि धनु राशि के जातकों को कौन सा रत्न किस दिन, किस समय व किस उंगली में पहनना चाहिए ताकि उन्हें खुशहाल जीवन मिल सकें.
धनु राशि के लोग कौन सा रत्न धारण करें- धनु राशि के स्वामी गुरु है और गुरु का रंग पीला है इसलिए धनु राशि के जातकों को पीला पुखराज रत्न पहनने की सलाह दी जाती है. गुरु ग्रह का रत्न पीला पुखराज कीमती रत्नों में से एक है जो गुरु ग्रह को बल प्रदान करने के लिए पहना जाता है. धनु के अलावा मीन राशि वाले भी पुखराज रत्न धारण कर सकते हैं. लेकिन वृषभ, मिथुन, कन्या, तुला और मकर राशि वालों को पुखराज नहीं पहनना चाहिए.

पीला पुखराज पहनने से लाभ और नुकसान – बृहस्पति का प्रतिनिधित्व करने वाला पत्थर पुखराज है. गुरु के शुभ होने पर ही हमें करियर में सफलता प्राप्‍त होती है और महिलाओं को सोना चांदी गुरु की कृपा से ही मिलता है. ऐसे में कुंडली में गुरु को मजबूत करने के लिए धनु राशि के जातकों को पुखराज पहनना चाहिए. पुखराज रत्न धनु राशि के लोगों के भाग्य की वृद्धि करेगा और जीवन में सुख- शांति लाएगा. पुखराज रत्न धनु राशि के लोगों को सकारात्मक, ईमानदार, बुद्धिमान और हंसमुख रहने में भी मदद करता है. धनु राशि के जातक यदि पीला पुखराज रत्न पहनते हैं तो इससे इनका मान-सम्मान बढ़ता है, धन-वैभव और विद्या में वृद्धि होती है, स्वास्थ्य और ऊर्जा हमेशा बनी रहती है. लाल किताब के अनुसार धनु लग्न में यदि गुरु लग्न में है तो पुखराज या सोना केवल गले में ही धारण करना चाहिए, हाथों में नहीं. यदि हाथों में पहनेंगे तो ये ग्रह कुंडली के तीसरे घर में स्थापित हो जाएंगे. लेकिन ज्योतिष के अनुसार यदि जन्म पत्रिका नहीं दिखाई है और मन से ही पुखराज धारण किया है तो नुकसान भी पहुंचा सकता है.
पीला पुखराज किस हाथ में पहने, पीला पुखराज किस उंगली मे धारण करें, पीला पुखराज किस दिन पहनें – बृहस्पति की राशि धनु के जातकों के लिए पुखराज शुभरत्न है. इस रत्न को बृहस्पतिवार/गुरुवार के दिन सुबह स्नान करने के बाद दायें हाथ की तर्जनी ऊँगली में पहनने की सलाह दी जाती है.
धनु राशि के जातक कौन सा रत्न धारण न करें- धनु राशि के जातकों को पन्‍ना रत्न नहीं पहनना चाहिए, पन्‍ना धनु राशि के लोगों को लिए नुकसानदायक हो सकता है.

धनु राशि वालों को क्या दान करना चाहिए?

धनु राशि वालों को क्या दान करना चाहिए, Dhanu Rashi Walon Ko Kya Daan Karna Chaahie
हिंदू धर्म में दान पुण्य का विशेष महत्व है. कहा जाता है कि दान करने वालों के हाथ कभी खाली नहीं रहते. अगर कोई व्यक्ति अपनी राशिनुसार दान करता है तो उसे इसका फल बहुत जल्दी मिलता है. धनु राशि के स्वामी देव गुरु बृहस्पति हैं. इसलिए धनु राशि के लोगों को गुरु ग्रह से संबंधित वस्तुएं जैसे पीली चीज, पुस्तक, भूमि, दूध देने वाली गाय, लाल वस्त्र, तांबा, केसर, मूंगा का दान करना चाहिए.

धनु राशि के दोष का उपाय, धनु राशि के लिए उपाय

धनु राशि के दोष का उपाय, धनु राशि के लिए उपाय, Dhanu Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Dhanu Rashi Ke Liye Upaay
धनु राशि के जातकों को अपने कष्ट दूर करने व जीवन में सफलता पाने के लिए निम्न उपाय करने चाहिए, यह उपाय करने से अवश्य ही आपकी सभी मनोकामना पूर्ण होगी.
1. धनु राशि के लोगों को प्रतिदिन अपने इष्ट देव विष्णु जी और लक्ष्मी जी की विधिवत पूजा अर्चना करनी चाहिए, ऐसा करने से अवश्य ही आपको उनका आशीर्वाद मिलेगा.
2. धनु राशि के जातकों को गुरुवार का व्रत करना चाहिए तथा गरीबों को खाना खिलाना चाहिए, यदि व्रत रखना संभव न हो सके तो इस दिन विष्णु जी और लक्ष्मी जी की पूजा अवश्य करें.
3. अगर धनु राशि के जातकों के जीवन में बाधाएं आ रही हैं और कदम-कदम पर समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है तो इससे छुटकारा पाने के लिए आपको हमेशा पीले चंदन की माला धारण करना चाहिए अथवा इस माला को आप घर के मंदिर में रख सकते हैं.
4. यदि धनु राशि के जातकों की सेहत खराब रहती है या वे किसी रोग से पीड़ित हैं और उससे छुटकारा पाना चाहते हैं तो लक्ष्मी माता के मंदिर में हल्के रंग के वस्त्र चढ़ाएं. ऐसा करने से आपको सेहत का लाभ मिलेगा.

5. यदि आपके आर्थिक जीवन में अस्थिरता बनी हुई है तो इस समस्या से निजात पाने के लिए धनु राशि के जातक पीपल वृक्ष को मंदिर में रोपकर उसकी देखभाल करें.
6. पढ़ाई में सफलता पाने के लिए धनु राशि के जातक गुरुवार के दिन माथे पर चंदन या फिर हल्दी का तिलक लगाएं. साथ ही पीले वस्त्र धारण करें. इससे आपको एजुकेशन क्षेत्र में सफलता मिलेगी.
7. धनु राशि के लोगों को पुखराज रत्न धारण करना चाहिए. इसके साथ ही पांच मुखी रुद्राक्ष और पीपल की जड़ी धनु राशि के लोगों के लिए शुभ होती है.

धनु राशि के इष्ट देव कौन है, धनु राशि के लिए रत्न, धनु राशि वालों को क्या दान करना चाहिए, धनु राशि के दोष का उपाय, धनु राशि के लिए उपाय, Dhanu Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai, Dhanu Rashi Ke Liye Ratna, Dhanu Rashi Walon Ko Kya Daan Karna Chaahie, Dhanu Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Dhanu Rashi Ke Liye Upaay

आपके अमूल्य सुझाब ही mail.viralsinindia@gmail.com की सफलता की कुंजी है|

About the author

Admin

Leave a Comment