हेल्थ

भांग और गांजा का इतिहास, गांजे का इतिहास, चरस का इतिहास, भांग का इतिहास, मारिजुआना का इतिहास, वीड का इतिहास, कैनेबिस का इतिहास, हशीश या हैश का इतिहास, Ganje Ki History In Hindi, Bhang Ki History In Hindi, Charas Ki History In Hindi, Marijuana Weed Hash Ki History In Hindi, History Of Ganja, Ganje Bhang Ka Itihaas

Written by Admin


भांग और गांजा का इतिहास, गांजे का इतिहास, चरस का इतिहास, भांग का इतिहास, मारिजुआना का इतिहास, वीड का इतिहास, कैनेबिस का इतिहास, हशीश या हैश का इतिहास, Ganje Ki History In Hindi, Bhang Ki History In Hindi, Charas Ki History In Hindi, Marijuana Weed Hash Ki History In Hindi, History Of Ganja, Ganje Bhang Ka Itihaas

भारत में कैनबिस का इतिहास
कैनबिस सैटिवा Cannabis Sativa पौधे की एक पहचान है जिसका उपयोग वैदिक काल में एक रस्म पेय, सोमा तैयार करने के लिए किया गया था, जिसका उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है. अथर्ववेद में , चिंता या टेंशन को कम करने वाले पांच पवित्र पौधों में से एक के रूप में भांग का भी उल्लेख है. भारतीय संस्कृति में गांजा सदियों से प्रयोग किया जाता रहा है. भारत में हमेशा से ही मारिजुआना या गांजे के लाभों के बारे में जानकारी थी. जैसे की साधु चिलम और भांग की ठंडाई का प्रयोग करते है.दुनिया धीरे धीरे मारिजुआना के औषधीय उपयोग को स्वीकार कर रही है.

ऐतिहासिक रूप से एक स्वीकार्य पदार्थ रहा है गांजा
भारत में 5000-4000 ईसा पूर्व भी गांजे के इस्तेमाल के रिकॉर्ड मिलते हैं. आयुर्वेद में उपयोग के चलते गांजा भारत में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले पौधों में से एक था. अपने साइकोएक्टिव गुणों के लिए गांजे का व्यापक रूप से प्रचलन रहा है. नेशनल सर्वे ऑन एक्सटेंट एंड पैटर्न्स ऑफ सबस्टांस यूज इन इंडिया में यह जाहिर होता है कि भारत में तीन करोड़ लोग गांजे का सेवन करते हैं. साइकोएक्टिव पदार्थों में शराब के बाद गांजा दूसरा सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला पदार्थ है.

मानव इतिहास में गांजा संभवतः सबसे शुरुआती पौधों में से एक है. कैनबिस की खेती जापान में पूर्व-नवपाषाण काल ​​से इसके रेशों के लिए और एक खाद्य स्रोत के रूप में की गई थी.जापान के पास ओकी द्वीप समूह में एक पुरातत्व स्थल है जिसमें लगभग 8००० ईसा पूर्व से भांग के अवशेष पाए गए है. गांजे के पौधे के उपयोग का ये भी पता चलता है की गांजा चीन में नवपाषाण युग से पहले से है, 5००० ईसा पूर्व से यांगशाओ संस्कृति Yangshao Culture के मिट्टी के बर्तनों पर पाए जाने वाले फाइबर के निशान भी यही दर्शाते है. बाद में चीनी ने कपड़े, जूते, रस्सी और कागज के शुरुआती रूप बनाने के लिए गांजा का इस्तेमाल किया था.प्राचीन कोरिया में कैनबिस एक महत्वपूर्ण फसल थी, जिसमें हेमपेन फेब्रिक Hempen Fabric के नमूनों की खोज हुई जो 3000 ईसा पूर्व के रूप में शुरू हुए थे.

Cannabis को गांजा संस्कृत और अन्य आधुनिक इंडो-आर्यन भाषाओं में कहा जाता है. कुछ विद्वानों का मानना है कि वेदों में वर्णित प्राचीन पेय सोम, भांग था, हालांकि यह सिद्धांत विवादित है.1000 ईस्वी पूर्व के कई भारतीय ग्रंथों में भांग का उल्लेख है. हालाँकि, संस्कृत के विद्वानों में इस बात पर बहस है कि क्या इस भांग की पहचान आधुनिक भांग से की जा सकती है.

प्राचीन अश्शूरियों Ancient Assyrians को भी कैनबिस की पहचान थी और वो इसका उपयोग करते थे, वे इसे Qunabu और Qunubu कहते थे , जो धूम्रपान पैदा करने का एक तरीका था . कैनबिस को स्केथियन, थ्रेसियन और डैशियन Scythians, Thracians and Dacians में भी लोकप्रियता मिल गयी थी.यूनानी इतिहासकार हेरोडोटस Herodotus ( 480 ई.पू., 480 BC) ने बताया कि सिथिया Scythia के निवासी अक्सर गांजा के धुएं को अवशोषित करते थे अनुष्ठान के रूप में और अपने स्वयं के मनोरंजक के लिए. 8 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में जुड़ा राज्य Kingdom of Judah के तेल अरद Tel Arad में कैनबिस के अवशेष पाए गए हैं. खोजकर्ताओं का मानना है कि ये सबूत यहूदा में अनुष्ठानिक मनोविश्लेषणात्मक उपयोग के लिए भांग का उपयोग करते थे.

गांजा कैनबिस वैश्विक प्रसार
सहस्राब्दी Millennium के आसपास, हैश (कैनबिस राल Tar) का उपयोग फारसी लोगो से अरब दुनिया में फैलने लगा. 1230 ईस्वी में कैनाबिस को कथित तौर पर इराक में प्रचार किया गया.12 वीं शताब्दी में अय्यूब राजवंश Ayyubid Dynasty के दौरान कुछ समय के लिए सीरिया के इस्लामी यात्रियों द्वारा हशीश को मिस्र में भी प्रचार किया गया था. मिस्र के सूफियों द्वारा हशीश की खपत तेरहवीं शताब्दी में दर्ज की गई है, और इसी दौरान भारतीय भांग के रूप में उल्लिखित भांग का भी दस्तावेजीकरण किया गया था. तम्बाकू की शुरुआत होने तब धूम्रपान पुरानी दुनिया Old World में आम नहीं हुआ था, इसलिए मुस्लिम दुनिया में 1500 के दशक तक हशीश का सेवन एक खाद्य के तौर पर ही किया जाता था.

माना जाता है कि कैनबिस को अफ्रीका में अरब या भारतीय हिंदू यात्रियों द्वारा पेश किया गया था, जिसे बंटू Bantu Settlers ने बाद में दक्षिणी अफ्रीका में पेश किया.इथियोपिया Ethiopia में लगभग 1320 CE तक के धूम्रपान वाले पाइपों में भांग के निशान पाए गए है.1652 में यूरोपीय लोगो के केप में सेटलमेंट से पहले ही खोइसन और बंटू Khoisan And Bantu Peoples लोगों के बीच गांजा लोकप्रिय था और उपयोग में लाया जाता था.1850 के दशक तक, स्वाहिली व्यापारियों Swahili Trader ने कैनबिस को अफ्रीका के पूर्वी तट से  पश्चिम में कांगो बेसिन तक पहुँचा दिया था.

स्पैनिश लोगो ने पश्चिमी गोलार्ध Western Hemisphere में गांजे को औद्योगिक रूप से प्रचार किया और लगभग 1545 से चिली में इसकी खेती शुरू कर दी.वर्जीनिया हाउस ऑफ बर्गेसेस ने पहला अधिनियम पारित किया, जिसमें वर्जीनिया के सभी बागान मालिकों को अपने बागानों में अंग्रेजी और भारतीय गांजा की खेती करना जरूरी था.

1798 में नेपोलियन बोनापार्ट के मिस्र पर आक्रमण के दौरान बोनापार्ट की सेना टुकड़ियों ने हैश का प्रयोग करना पड़ा क्युकी मिस्र के इस्लामिक देश होने के कारण वहा शराब उपलब्ध नहीं थी.नेपोलियन की सेना की टुकड़ियों ने हैश का प्रयोग किया और उनको पसंद भी आया. उत्तरी अफ्रीका और मध्य पूर्व में 1836-1840 की यात्रा के बाद, फ्रांसीसी चिकित्सक जैक्स-जोसेफ मोरो Jacques-Joseph Moreau ने भांग के उपयोग के मनोवैज्ञानिक प्रभावों पर लिखा; मोरो पेरिस के क्लब डेस हैशिकिन्स Paris’ Club des Hashischins (1844 में स्थापित) के सदस्य थे. 1842 में, आयरिश चिकित्सक विलियम ब्रुक ओ’शुघेन्सी, William Brooke O’Shaughnessy जिन्होंने ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ बंगाल में एक चिकित्सा अधिकारी के रूप में काम करते हुए दवा का अध्ययन किया था, ब्रिटेन लौटने पर अपने साथ भांग की एक मात्रा ले गए , जिससे पश्चिम देशो में गांजे के प्रति रुचि बढ़ गई.

भांग और गांजा का इतिहास, गांजे का इतिहास, चरस का इतिहास, भांग का इतिहास, मारिजुआना का इतिहास, वीड का इतिहास, कैनेबिस का इतिहास, हशीश या हैश का इतिहास, Ganje Ki History In Hindi, Bhang Ki History In Hindi, Charas Ki History In Hindi, Marijuana Weed Hash Ki History In Hindi, History Of Ganja, Ganje Bhang Ka Itihaas

अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए आर्टिकल्स पर क्लिक करें – 

  1. नशा छुड़ाने की घरेलू दवा, नशा मुक्ति के कुछ घरेलू नुस्खे, Nasha Mukti In Hindi, Nasha Churane Ke Gharelu Tarike
  2. शराब छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा, शराब छुड़ाने की होम्योपैथी दवा, शराब छुड़ाने के लिए घरेलू नुस्खे, शराब छुड़ाने का मंत्र, शराब छुड़ाने के लिए योग, Sharab Churane Ki Ayurvedic Dawa
  3. नशा छुड़ाने की होम्योपैथिक दवा, होम्योपैथिक नशा मुक्ति दवा, नशा मुक्ति होम्योपैथिक दवा, Nasha Chudane Ki Homeopathic Medicine 
  4. नशा छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा, नशा मुक्ती की दवा, Nasha Mukti Dava Powder, Nasha Chudane Ki Ayurvedic Dawa, नशा छुड़ाने के आयुर्वेदिक उपाय
  5. गांजा छोड़ने के फायदे, चरस छोड़ने के फायदे, भांग छोड़ने के फायदे, मारिजुआना छोड़ने के फायदे , वीड छोड़ने के फायदे, कैनेबिस छोड़ने के फायदे, हशीश या हैश छोड़ने के फायदे
  6. तंबाकू छोड़ने के फायदे, खैनी छोड़ने के फायदे, गुटखा छोड़ने के फायदे, पान मसाला छोड़ने के फायदे, Tambaku Chorne Ke Fayde, Gutkha Chorne Ke Fayde, Khaini Chorne Ke Fayde
  7. शराब छोड़ने के फायदे, अल्कोहल छोड़ने के फायदे, दारू छोड़ने के फायदे, Sharab Chorne Ke Fayde, Daaru Chorne Ke Fayde, Sharab Pine Band Karne Ke Fayde
  8. सिगरेट छोड़ने के फायदे, धूम्रपान छोड़ने के फायदे, स्मोकिंग छोड़ने के फायदे , बीड़ी छोड़ने के फायदे, Cigarette Chorne Ke Fayde, Bidi Chorne Ke Fayde
  9. बीड़ी कैसे बनती है, बीड़ी बनाने का तरीका, बीड़ी बनाने की मशीन, बीड़ी छोड़ने के घरेलू नुस्खे, बीड़ी कैसे बनती है बताएं, Bidi Kaise Banate Hain
  10. सिगरेट कैसे बनती है, सिगरेट कैसे बनाई जाती हैं, सिगरेट बनाने की विधि, सिगरेट कैसे बनती है बताएं, How Cigarettes Are Made, Cigarette Kaise Banti Hai
  11. तंबाकू कैसे बनाते हैं, तम्बाकू बनाने का तरीका, तम्बाकू बनाने की विधि, तम्बाकू कैसे बनता है, Tambaku Kaise Banta Hai, Tambaku Banane Ki Vidhi
  12. भांग और गांजा का इतिहास, गांजे का इतिहास, चरस का इतिहास, भांग का इतिहास, मारिजुआना का इतिहास, वीड का इतिहास,Ganje Ki History In Hindi, Bhang Ki History In Hindi
  13. शराब का इतिहास, अल्कोहल का इतिहास, शराब की खोज किसने की, History Of Alcohol In Hindi, Sharab Ka Itihas, Alcohol History In Hindi, When Was Alcohol Invented
  14. सिगरेट का इतिहास, सिगरेट का आविष्कार, सिगरेट का हिंदी नाम, History Of Cigarette In Hindi, Cigarette Ki Khoj Kisne Ki, Who Invented Cigarette, Cigarette History In Hindi
  15. बीड़ी का इतिहास, बीड़ी का आविष्कार किसने किया था, बीड़ी की खोज, Bidi, Beedi History In Hindi, Beedi Ki History, Biri Ki Khoj Kisne Ki, Bidi Ka Itihas, Bidi Meaning In Hindi
  16. सिगरेट छोड़ने के बाद क्या होता है, सिगरेट छोड़ने के बाद नुकसान, तम्बाकू छोड़ने के बाद हालात से कैसे निपटा जाए, Nicotine Withdrawal Symptoms In Hindi, Quit Smoking 
  17. अल्कोहल विथड्रावल सिंड्रोम, अल्कोहल विथड्रावल ट्रीटमेंट प्रक्रिया दुष्प्रभाव,शराब वापसी, Alcohol Withdrawal Symptoms In Hindi, Alcohol Withdrawal Treatment
  18. गांजा पीने के फायदे, चरस पीने के फायदे, भांग पीने के फायदे, मारिजुआना पीने के फायदे, वीड पीने के फायदे, कैनेबिस पीने के फायदे , हशीश या हैश पीने के फायदे 
  19. गांजा पीने के नुकसान, चरस पीने के नुकसान, भांग पीने के नुकसान, मारिजुआना पीने के नुकसान, वीड पीने के नुकसान, कैनेबिस पीने के नुकसान, हशीश या हैश पीने के नुकसान 
  20. तंबाकू खाने के नुकसान, सुर्ती खाने के नुकसान, खैनी खाने के नुकसान, तंबाकू खाने से क्या नुकसान होता है, Tambaku Khane Ke Nuksan, Khaini Khane Ke Nuksan 
  21. गुटका गुटखा के नुकसान, गुटखा खाने के नुकसान, पान मसाला खाने के नुकसान, गुटखा खाने से कौन सा रोग होता है, Gutkha Khane Ke Nuksan, Pan Masala Khane Ke Nuksan 
  22. सिगरेट पीने के नुकसान, बीड़ी के नुकसान, स्मोकिंग करने के नुकसान, धूम्रपान के नुकसान, Cigarette Ke Nuksan, Beedi Peene Ke Nuksan, Dhumrapan Ke Nuksan
  23. शराब के दुष्परिणाम, शराब के नुकसान, एल्कोहल के फायदे, शराब पीने के फायदे और नुकसान, दारु पीने से क्या होता है, Sharab Ke Nuksan, Alcohol Side Effects In Hindi
  24. गांजा भांग की लत से छुटकारा, भांग छोड़ने के उपाय, स्मैक का नशा छुड़ाने के उपाय, गांजे का नशा छुड़ाने के उपाय, हशीश हैश का नशा छुड़ाने के उपाय 
  25. तम्बाकू छोड़ने के तरीके, गुटखा छोड़ने की दवा , तम्बाकू कैसे बंद करें, खैनी छोड़ने के घरेलू उपाय ,तम्बाकू छोड़ने की दवा, Gutkha Chodne Ka Tarika, Tobacco Chodne Ke Upay
  26. बीड़ी सिगरेट छोड़ने की दवा, स्मोकिंग छोड़ने की दवा, बीड़ी सिगरेट छोड़ने का उपाय, सिगरेट छोड़ने की दवा, Cigarette Kaise Band Kare, Desi Nuskhe For Quitting Smoking 

Disclaimer – हमारा एकमात्र उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि पाठको सटीक और भरोसेमंद जानकारी मिले. हालांकि, इसमें दी गई जानकारी को एक योग्य चिकित्सक की सलाह के विकल्प के रूप में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए. यहां दी गई जानकारी केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है यह सभी संभावित दुष्प्रभावों, चेतावनी या अलर्ट को कवर नहीं कर सकता है. कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें और किसी भी बीमारी या दवा से संबंधित अपने सभी प्रश्नों पर चर्चा करें. हमारा मकसद सिर्फ जानकारी देना है.

आपके अमूल्य सुझाब ही mail.viralsinindia@gmail.com की सफलता की कुंजी है|

About the author

Admin

Leave a Comment