सवाल आपके

तुला राशि के इष्ट देव कौन है, तुला राशि के लिए रत्न, तुला राशि के दोष का उपाय, तुला राशि के लिए उपाय, Tula Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai, Tula Rashi Ke Liye Ratna, Tula Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Tula Rashi Ke Liye Upaay

Written by Admin


तुला राशि के इष्ट देव कौन है, तुला राशि के लिए रत्न, तुला राशि के दोष का उपाय, तुला राशि के लिए उपाय, Tula Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai, Tula Rashi Ke Liye Ratna, Tula Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Tula Rashi Ke Liye Upaay

तुला राशि – परिचय

राशि चक्र की सातवीं राशि तुला का स्वामी शुक्र ग्रह है. तुला राशि में जन्म लेने वाले लोगों में विभिन्‍न खूबियां होती हैं. इस राशि के जातकों को कला से प्रेम होता है एवं पैसा कमाने के लिए सदैव उत्‍सुक रहते हैं. ये जातक हमेशा दूसरों पर अपना वर्चस्‍व साबित करना चाहते हैं और अपने जीवन में भावनात्मक उथल-पुथल से भी पीड़ित होते हैं. ऐसे में तुला राशि के जातकों को अपने इष्ट देव की पूजा करनी चाहिए तथा अपनी राशि के अनुसार रत्न धारण करना चाहिए. ऐसा करने से उन्हें जीवन में आ रही समस्याओं से छुटकारा मिलेगा. यहां जनिए तुला राशि के इष्ट देव, रत्न और उपाय के बारे में विस्तृत जानकारी-

तुला राशि के इष्ट देव कौन है? Tula Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai?

‘एक साधे सब सधे, सब साधे सब जाय’ अर्थात् यदि किसी एक चीज को केंद्रित करके कोई काम किया जाए तो बाकी काम भी होते चले जाते हैं, लेकिन अगर सब पर एक साथ काम करोगे तो कुछ भी आपके हाथ नहीं लगेगा. यही बात हमारे सनातन धर्म में देवी देवताओं को लेकर भी लागू होती है. हिंदुओं के तैंतीस कोटि देवी और देवता माने गए हैं, ऐसे में सभी की एक साथ पूजा करना और फल प्राप्त करना संभव नहीं है, इसलिए आपको किसी एक देवी या देव को अपना इष्ट देव मानकर पूजा करनी चाहिए. इष्ट देव का अर्थ है अपनी राशि के पसंद के देवता, जिनका संबंध हमारे कर्मों और हमारे जीवन से होता है. तुला (Libra) राशि का स्वामी शुक्र ग्रह है और इसलिए इनकी इष्ट देवी मां दुर्गा हैं, इन्हें मां दुर्गा की विधिवत् पूजा करनी चाहिए. मां दुर्गा की पूजा करने से तुला राशि के जातकों के जीवन में सुख व समृद्धि आती है.
तुला राशि का स्वामी – शुक्र
तुला राशि की इष्ट देवी – मां दुर्गा

तुला राशि के लिए रत्न, Tula Rashi Ke Liye Ratna

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार रत्नों का जीवन में काफी असर पड़ता है. अगर लोग राशि के हिसाब से ग्रहों की स्थिति को देखकर रत्न धारण करें तो अवश्य ही उन्हें इसका सार्थक परिणाम देखने को मिलेगा. ज्योतिष शास्त्र में 9 रत्नों को महत्वपूर्ण माना गया है. यह सभी रत्न किसी न किसी ग्रह का प्रतिनिधित्व करते हैं. इन रत्नों को राशि के हिसाब से आंकलन कर धारण करने की सलाह दी जाती है. कई बार देखा गया है कि बिना जानकारी लिए लोग रत्न धारण कर लेते हैं. जिसकी वजह से उन्हें कई बार परेशानी का सामना करना पड़ जाता है. इसलिए आइये जानें कि तुला राशि के जातक कौन सा रत्न रत्न धारण करें ताकि उन्हें इसका सकारात्मक लाभ मिल सके.
तुला राशि के लोग कौन सा रत्न धारण करें- तुला राशि का स्वामी शुक्र ग्रह है, इस राशि में जन्म लेने वाले जातकों को शुक्र से जुड़ा रत्न हीरा धारण करना चाहिए. शुक्र ग्रह के रत्न हीरा को सफेद पुखराज भी कहा जाता है, ये रत्न तुला राशि के लिए शुभ होता है. हीरा रत्न शुक्र ग्रह को बलवान बनाता है. हीरा बहुत महंगा रत्न है और धन-वैभव का प्रतीक माना जाता है. यदि तुला राशि वाले लोग हीरा रत्न धारण करते हैं, तो उन्हें जीवन में सुख-सुविधा, ऐश्‍वर्य, ख़ुशहाली सभी कुछ मिलता है. तुला राशि के अलावा वृष, मिथुन, कन्या, मकर और कुंभ लग्न के जातक भी हीरा पहन सकते है. लेकिन मेष, कर्क, वृश्चिक, सिंह और मीन लग्न वालों को हीरा नहीं पहनना चाहिए.
हीरा किस हाथ में पहने, हीरा किस उंगली मे धारण करें, हीरा किस दिन पहनें – तुला राशि के जातक हीरा रत्न को दायें हाथ की मध्यामा उंगली में शुक्रवार की सुबह स्नान करने के बाद धारण करें, शुभ फल मिलेगा.
तुला राशि के जातक कौन सा रत्न धारण न करें- तुला राशि के जातक मूंगा न पहने, यह रत्न पहनने से आपको नुकसान हो सकता है.

हीरा पहनने से लाभ और नुकसान

लाभ – तुला राशि के जातकों के लिए हीरा रत्न बहुत शुभ है. हीरा मालामाल भी कर सकता है और कंगाल भी. इसे पहनने से रूप, सौंदर्य, यश व प्रतिष्ठा प्राप्त होती है. यह तुला राशि की आकर्षण शक्ति बढ़ाता है और स्वास्थ्य समस्याओं को भी दूर करता है. तुला राशि के स्‍वामी शुक्र हैं जो कि दांपत्‍य जीवन को मजबूती प्रदान करते हैं. शुक्र को प्रसन्‍न करने तथा हर प्रकार की भौतिक सुविधाओं का जीवन में लाभ उठाने के लिए तुला राशि के जातकों को हीरा पहनना चाहिए. तुला राशि के जातकों को अपनी रचनात्मकता बढ़ाने, अपने भावनात्मक तनाव से बचने तथा नकारात्‍मकता को नियंत्रित करने के लिए भी डायमंड (हीरा) धारण करना चाहिए.
नुकसान – लाल किताब के अनुसार तीसरे, पांचवें और आठवें स्थान पर शुक्र हो तो हीरा नहीं पहनना चाहिए. इसके अलावा टूटा-फूटा हीरा भी नुकसानदायक होता है. कुंडली में शुक्र, मंगल या गुरु की राशि में बैठा हो या इनमें से किसी एक से दृष्ट हो या इनकी राशियों से स्थान परिवर्तन हो तो हीरा मारकेश की भांति बर्ताव करता है और वह आत्महत्या या पाप की ओर अग्रसर करता है.

तुला राशि के दोष का उपाय, तुला राशि के लिए उपाय

तुला राशि के दोष का उपाय, तुला राशि के लिए उपाय, Tula Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Tula Rashi Ke Liye Upaay
तुला राशि के जातकों को अपने कष्ट दूर करने व जीवन में सफलता पाने के लिए निम्न उपाय करने चाहिए, यह उपाय करने से अवश्य ही आपकी सभी मनोकामना पूर्ण होगी.
1. तुला राशि के लोगों को प्रतिदिन अपने इष्ट देवी मां दुर्गा की विधिवत पूजा अर्चना करनी चाहिए, ऐसा करने से अवश्य ही आपको उनका आशीर्वाद मिलेगा.
2. तुला राशि के जातकों को शुक्रवार का व्रत करना चाहिए तथा गरीबों को खाना खिलाना चाहिए, यदि व्रत रखना संभव न हो सके तो इस दिन मां संतोषी की पूजा अवश्य करें.
3. जीवन में स्थिरता, प्रगति एवं सुख समृद्धि पाने के लिए तुला राशि के जातक प्रतिदिन मां लक्ष्मी जी के समक्ष देसी घी का दीपक जलाएं.
4. बुधवार के दिन अपने घर में मनी प्लांट का पौधा लगाएं, ऐसा करने से आपकी आर्थिक समस्याएं दूर हो जाएंगी और सुख-समृद्धि का आगमन होगा.
5. शादीशुदा लोग दांपत्य जीवन को सुखी बनाने के लिए मंगलवार के दिन लाल वस्त्र में जटायुक्त नारियल बांधकर बहते हुए जल में प्रभावित करें.
6. कर्ज से छुटकारा पाने एवं आर्थिक परेशानियों को दूर करने के लिए दीपावली की रात्रि में लक्ष्मी पूजन के समय कमल गट्टे की माला माता के चरणों में पूजा के दौरान रखें और पूजा के बाद उसे अपनी तिजोरी पर रख लें. धनलाभ होगा.
7. शिक्षा के क्षेत्र में सफलता पाने के लिए चीटियों को रोजाना आंटा खिलाएं. शुक्रवार के दिन अपने शरीर पर कोई गुलाबी रंग का वस्त्र पहनें तथा इत्र लगाएं.

तुला राशि के इष्ट देव कौन है, तुला राशि के लिए रत्न, तुला राशि के दोष का उपाय, तुला राशि के लिए उपाय, Tula Rashi Ke Isht Dev Kaun Hai, Tula Rashi Ke Liye Ratna, Tula Rashi Ke Dosh Ka Upaay, Tula Rashi Ke Liye Upaay

आपके अमूल्य सुझाब ही mail.viralsinindia@gmail.com की सफलता की कुंजी है|

About the author

Admin

Leave a Comment